Buy UPSC Preparation Book

UPSC Preparation Books Review-2020

[contact-form][contact-field label=”Name” type=”name” required=”true” /][contact-field label=”Email” type=”email” required=”true” /][contact-field label=”Website” type=”url” /][contact-field label=”Message” type=”textarea” /][/contact-form] हेल्लो दोस्तों, आपको पता है जितना टाइम आज हम इन्टरनेट पर बर्बाद कर रहे उतने टाइम में हम एक successfull इंसान बन सकते है बस…

गूगल पर ये लिखते ही पेज हो जाएगा ब्लेंक,जानिए पाच ट्रिक्स

आज शायद ही ऐसा कोई हो जो इन्टरनेट का इस्तेमाल न करता हो और google का प्रयोग न करता हो. हमे कुछ भी जानना हो तो सीधा हम इन्टरनेट का सहारा लेते है और कुछ लिख के या बोल के…

सही से काम नहीं कर रहे फ़ेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सऐप

सोशल मीडिया ऐप्स फ़ेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सऐप सही से काम नहीं कर रहे हैं. दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में यह समस्या देखने को मिल रही है. ये ऐप पूरी तरह से ठप नहीं हुए हैं मगर इनके कुछ फ़ीचर के…

मकर संक्रांति पर तिल का महत्व ?

Image result for तिल फोटो
मकर संक्रांति पर तिल का महत्व

इस साल मकर संक्रांति 14 नहीं बल्कि 15 जनवरी को मनाई जा रही है,इसके साथ ही शुभ कार्यो का आरम्भ भी इसी दिन से शुरू होने जा रहे है,लेकिन कुछ है जो इस दिन को कुछ खाश और जरा हट के बनाता है,जी हां,वो है तिल के बने लाडू जिसे लडडू भी कहा जाता है, मकर संक्रांति के दिन  तिल ,गुड के लाडू बनाये जाते है .

इसे भी पढ़े :साबुत मूँग दाल रेसिपी

  • साथ ही खाने में ये बेहद ही स्वादिष्ट होते है,हर घर में इसकी चर्चा होती है खाश करके उतर भारती इलाके में सबसे ज्यादा बनाये और खाए जाते है ,बिना इसके ये पर्व अधुरा माना जाता है .
  •   तिल सिर्फ खाने में प्रयोग नहीं लाये जाते बल्कि बहुत से लोगो की मान्यता है की मकर संक्रांति के दिन तिल को पानी में डालकर नहाने से भी पुन्य मिलता है .

Related image
शनि देव की फोटो -थर्ड पार्टी

एक पौराणिक कथा…..बेस्ट जोक्स

मान्यता के अनुसार शनिदेव को उनके पिता (सूर्य देव) पसंद नहीं करते थे ,इसी कारण सूर्य देव ने शनि और उनकी माता छाया को अपने से अलग कर दिया था. जिसकी वजह से क्रोध में आकर शनि और उनकी माता छाया ने सूर्य देव को कुष्ट रोग का श्राप दे दिया .

आखिर क्यूँ 2019 में 14 नहीं 15 जनवरी को मनाई जा रही है मकर संक्रांति?,जानिए इसकी खाश वजह

Image result for मकर संक्रांति फोटो

हर साल 14 जनवरी को मनाई जाने वाली मकर संक्रांति इस साल 15 जनवरी को मनाई जा रही है,जिस कारन प्रयागराज में हो रहा कुम्भ भी इस साल 15 जनवरी को शुरू होने जा रहा है.साथ ही पहला स्नान भी 15 जनवरी से ही शुरू होंगे.साबुत मूँग दाल रेसिपी

मकर संक्रांति क्यूँ कहते है ?

कहते है इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश करता है.इसी वजह से इस संक्रांति को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है.इस साल राशि में ये परिवर्तन 14 नहीं बल्कि 15 जनवरी को दर रात को होने जा रहा है ,इसलिए इस बार 15 जनवरी को मकर संक्रांति मनाया जायेगा.

मकर संक्रांति का महत्व क्या है ?

Image result for मकर संक्रांति फोटो

 

मकर संक्रांति के अवसर पर गंगा स्नान एवं दान को अत्यंत शुभ माना गया है . इस दिन प्रयागराज में गंगा स्नान अपना अलग ही महत्व दर्शाता है दुनिया भर से सैकड़ो की संख्या में लोग यहा इकठ्ठा होते है,इस दिन सूर्य दक्षिणायन से उतरायण ने प्रवेश करता है,वही,