बेटियां माँ की दुलारी है👱👵👱👵

2
388

IMG_20180107_152518

मायका

सुबह होते ही माँ रिया को जगाने आती है,उठ जा रिया सुबह हो गयी है और कितना सोएगी सूरज सिर पर चढ़ आया है सुबह के 9बज चुके है अब तो उठ जा बेटा ।।

रिया :माँ, थोड़ी देर और सोने दो ना इतनी सुबह मत उठाया करो मुझे

माँ : ठीक है,सोजा बस 10मिनट

रिया नहा- धोकर टेबल पर खाना खाने आ जाती है ….

ससुराल 

कहते है ससुराल में कितना भी प्यार मिले लेकिन ससुराल ही होता है कभी मायका नही बन सकता ये बात सच है ….

 

सुबह के 8 बज चुके थे रिया अभी तक सो रही थी ससुराल में उसकी सास सुबह का खाना बना चुकी थी ये रोज का सिलसिला था,रिया से सुबह उठा नही जाता तो रोज 8बजे उठती इतने में खाना बन जाता था ।।

इसके बाद दिन भर से रात तक  के जो भी काम होते थे  रिया पूरा करती थी,लेकिन इसके बाद भी जब सासु माँ किसी से मिलती तो कहती मैं सुबह उठ के इतना काम की इसको काम ही क्या है बस सोने से फ़ुर्सत ही नही मिलती ,ये बात रिया को खटकती थी इसलिए नही की उसके बारे में ऐसा कह रही  थी बल्कि इसलिए कि ये रोज रोज का सिलसिला बन चुका  था ।

दुपहर में अपने कमरे में जाकर रिया पढ़ाई करती,ढेरो देर तक जगती रहती कुछ न कुछ सोचती रहती,इस बीच  तबियत भी  कभी खराब होती लेकिन कोई आसपास पूछने वाला नही रहता क़्क़ी काम इस समय नही रहता न  अपने कमरे में चाहे रोये तड़पे  किसी से कोई मतलब नही  ,थोड़ा साम होने तक नींद लग जाती ,फिर भी सास को ले लगता रिया सुबह से शाम बस सोती रहती है , दिन भर  में एक ही बात 10बार तो जरूर  कहती बाहर वालो से भी,रिया शाम होते ही अपने काम मे लग जाती ।।

रिया बड़ी असमंजस में पड़ जाती है कि उसके मायके में एक बर्तन बस क्या धो देती तो “माँ, तारीफों की पुल बॉध दिया करती थी,मेरी बेटी इतना करती है ।।

और

ससुराल में पूरा काम करने के बाद भी एक अच्छी बात शुनने को मुश्किल से मिलते है,तारीफ तो दूर की बात है  पति के ताने ऊपर से ,घर मे पूरे दिन करती क्या हो काम ही क्या है तुम्हे बस जाओ सो जाओ।।

रात के अंधेरे में आँखों से छलकते कुछ आँसू,फिर गहरि नींद कब अपने आगोश में ले लेती है पता हि नही चलता ।।

शादी से पहले हर लड़की यही सोचती है ससुराल में उसकी माँ जैसी ही एक  और माँ होगी,जहाँ ओ मस्ती,मजा सब करेगी जैसे मायके में है वैसे वहां रहेगी हमेसा सब कुछ अच्छे से चलेगा

लेकिन जब एक

सास को हमेशा यही लगता है बहु कभी बेटी नही बन सकती,फिर एक बेटी सास को अपनी “माँ,कैसे माने?

।। बेटियां सिर्फ और सिर्फ अपने माँ के लाडली होती हैं।।

###### बात कड़वी है लेकिन गहरी है######

 

 

 

2 COMMENTS

  1. आप खुद से खुश रहो
    जब आप खुद से खुश रहोगे तो आप का आप के ऊपर खुद का भरोसा रहेगा जो आप के जीवन को सही मतलब समझायेगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here